इंतज़ाम सब है…

महफिलों से भरी गलियों में रहता हूँ,
जाम, इश्क़, यार, सर-ए-आम सब है।

तू बस एक बार आने की हामी तो भर,
मेरी जान, यहाँ इंतज़ाम सब है।

कोई यहाँ तुझे पहचान भी जाए तो डर नहीं,
मेहमान-ओ-मेज़बान-ओ-मकान, यहाँ बदनाम सब है।

तेरा मज़हब, मेरा खुदा, किसी का ज़िक्र नहीं,
यहाँ के काफिरों में ये हराम सब है।

तन्हाई का नाम-ओ-निशाँ नहीं यहाँ,
दिल-फेक आशिक़ मेहरबान सब है।

2 thoughts on “इंतज़ाम सब है…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s